Constituency-wise Result Finder : General Elections India
असीमानंद का दावा, भागवत के इशारे पर हुए थे बम धमाकें
Publish Date :
02/06/2014

नई दिल्ली। समझौता एक्सप्रेस धमाके के मुख्य आरोपी स्वामी असीमानंद ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पर गंभीर आरोप लगाए हैं। एक मैगजीन को दिए इंटरव्यू में असीमानंद ने दावा किया है कि मुस्लिम इलाकों में जो भी धमाके हुए हैं, उसकी मंजूरी आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने दी थी। मुस्लिम इलाकों में धमाकों को हरी झंडी देने के मामले में असीमानंद ने मोहन भागवत के साथ आरएसएस के वरिष्ठ पदाधिकारी इंद्रेश कुमार का भी नाम लिया है।
असीमानंद समझौता एक्सप्रेस (फरवरी 2007), हैदराबाद मक्का मस्जिद (मई 2007) और अजमेर दरगाह (अक्टूबर 2007) बम धमाकों के मामले में आरोपी है। एक मैगजीन में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार असीमानंद ने कहा कि भागवत ने उन्हें कहा कि धमाकों को संघ से नहीं जोडा जाना चाहिए। तब भागवत संघ प्रमुख नहीं थे। असीमानंद ने इंटरव्यू में बताया कि भागवत ने उससे कहा, यह बहुत जरूरी है कि हिंसा हो, लेकिन इसे संघ से नहीं जोडा जाए। मैगजीन ने इंटरव्यू का ऑडियो भी जारी कर दिया। दूसरी तरफ संघ ने इन आरोपों से इनकार किया है।
संघ ने कहा कि जो ऑडियो जारी किया गया है वह फर्जी है। जबकि असीमानंद के वकील जेएस राणा का कहना है कि "कैरावन" में "द बिलीवर" शीर्षक से स्वामी असीमानंद पर लीना गीता रघुनाथ का जो लेख छपा है, सरासर झूठों का पुलिंदा है। ग़ौरतलब है कि असीमानंद पर साल 2006 से 2008 के बीच समझौता एक्सप्रेस धमाका (फरवरी 2007), हैदराबाद मक्का मस्जिद धमाका (मई 2007), अजमेर दरगाह (अक्टूबर 2007) और मालेगांव में दो धमाके (सितंबर 2006 और सितंबर 2008) के आरोप हैं। इन धमाकों में कुल 119 लोग मारे गए थे। जिस वक्त मोहन भागवत से असीमानंद की मुलाकात हुई थी उस समय मोहन भागवत आरएसएस में संगठन महासचिव थे।

 
 
अन्य खबरें
 

Cricket Live!

SunStar online
 
 
 

Electline Leader

Electline सेवाएं

Voters's view for election



आपके विचार से अगले चुनाव मे आपकी लोक सभा क्षेत्र से कौन सी पार्टी जीतेगी?

कृपया अपनी लोक सभा चुने