Constituency-wise Result Finder : General Elections India
बंगाल में जान फूंकेंगे राहुल
Publish Date :
03/26/2014

 कोलकाता ।कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के कोलकाता दौरे को लेकर सत्तारुढ़ तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस में घमासान मचा हुआ है. राज्य सरकार के रवैए के चलते यह दौरा ही खटाई में पड़ गया था. लेकिन अब सेना की ओर से अनुमति मिलने की वजह से 25 मार्च को यहां महानगर के शहीद मीनार मैदान में होने वाली राहुल की सभा का रास्ता साफ हो गया है. बावजूद इसके दोनों राजनीतिक दलों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर अभी खत्म नहीं हुआ है. लोकसभा चुनावों के एलान के बाद किसी भी पार्टी की ओर से किसी स्टार प्रचारक का यह राज्य का पहला दौरा होगा.
प्रदेश कांग्रेस पहले पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं की इस सभा का आयोजन नेताजी इंडोर स्टेडियम में करना चाहती थी. उसके बाद उसने पार्क सर्कस मैदान को चुना था. लेकिन सरकार ने इन दोनों जगहों पर सभा की अनुमति नहीं दी. पहले तो कह दिया गया कि स्टेडियम 24 मार्च से दो अप्रैल तक बुक है. पार्क सर्कस मैदान में सभा की अनुमति के लिए कांग्रेस ने दो-दो आवेदन पत्र भेजे थे. लेकिन कोलकाता नगर निगम उस पर चुप्पी साध गया. बाद में उसने दलील दी कि सरकारी पार्क में चुनावी सभा करने की अनुमति नहीं दी जा सकती. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और रेल राज्य मंत्री अधीर चौधरी कहते हैं, ‘तृणमूल कांग्रेस खुद तो रोजाना सरकारी इमारतों में चुनावी गतिविधियां चला रही है और हमारे लिए यह बहाना गढ़ दिया है.’
दूसरी ओर, तृणमूल कांग्रेस नेताओं या ममता सरकार ने इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं की है. नगर निगम के सूत्रों का कहना है कि पार्क सर्कस मैदान के पास कई स्कूल हैं. राज्य में 12वीं की परीक्षाएं चल रही हैं. ऐसे में वहां माइक लगा कर राजनीतिक सभा करने की अनुमति कैसे दी जा सकती है.
सरकार के इंकार से दुखी कांग्रेसियों ने आखिर कोलकाता पुलिस, चुनाव आयोग और सेना से शहीद मीनार मैदान में सभा करने की अनुमति मांगी. वह मैदान सेना के नियंत्रण में है. इसलिए वहां होने वाले किसी भी कार्यक्रम के लिए उसकी हरी झंडी जरूरी है. सेना ने आवेदन के कुछ घंटे की भीतर ही इसकी अनुमति दे दी. उसी आधार पर पुलिस ने भी सभा की इजाजत दे दी है. चौधरी का आरोप है कि तृणमूल कांग्रेस सरकार अपने अधिकारों को दुरुपयोग कर राहुल को बंगाल आने से रोकने का प्रयास कर रही है. सेना ने बाद में इस सभा के लिए अनुमति दे दी.
प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रदीप भट्टाचार्य ने बताया कि राहुल यहां नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक के बाद उसी दिन उत्तर बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले में स्थित अलीपुरदुआर में भी एक सभा करेंगे. बड़े नेताओं में चुनाव लड़ने के प्रति अनिच्छा, तृणमूल कांग्रेस से नाता टूटने और दूसरी कई वजहों से हताश पड़ी कांग्रेस में राहुल के दौरे से एक नया उत्साह पैदा होने की उम्मीद है. पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को छह सीटें मिली थीं. लेकिन अबकी इनको बचाए रखना ही उसके लिए कठिन चुनौती है. ऐसे में कांग्रेसियों की उम्मीदें राहुल के इस दौरे पर टिकी हैं

 

जनादेश इलेक्टलाइन  कि  साझापहल 

 
 
अन्य खबरें
 

Cricket Live!

SunStar online
 
 
 

Electline Leader

Electline सेवाएं

Voters's view for election



आपके विचार से अगले चुनाव मे आपकी लोक सभा क्षेत्र से कौन सी पार्टी जीतेगी?

कृपया अपनी लोक सभा चुने