Constituency-wise Result Finder : General Elections India
केजरीवाल सरकार अल्पमत में! शौकीन ने समर्थन वापस लिया
Publish Date :
02/11/2014

नई दिल्ली। दिल्ली में आम आदमी पार्टी सरकार को सोमवार को उस समय एक और झटका लगा जब निर्दलीय विधायक रामबीर शौकीन ने अरविंद केजरीवाल से अपना समर्थन वापस ले लिया। इसके साथ ही केजरीवाल की पार्टी 70 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत से फिसलकर 35 सदस्यों पर सिमट गई है। हालांकि सरकार को कोई खतरा हालफिल नहीं दिखता।
शौकीन अपने फैसले की जानकारी देने के लिए उप राज्यपाल से मिलने गए थे लेकिन नजीब जंग के एक मीटिंग में व्यस्त होने के कारण वह उनसे नहीं मिल पाए। शौकीन का दावा है कि सरकार ने चूंकि चुनाव से पहले किए गए वादे पूरे नहीं किए हैं इसलिए वह उससे अपना समर्थन वापस ले रहे हैं। उप राज्यपाल के कार्यालय से बाहर आने के बाद शौकीन ने कहा, हमने पहले से समय नहीं लिया था और उपराज्यपाल को सीधे यह बताने चले आए कि मैं आप के नेतत्व वाली दिल्ली सरकार से अपना समर्थन वापस ले रहा हूं। लेकिन हम उनसे मिल नहीं पाए, क्योंकि वह एक मीटिंग में व्यस्त थे। हमने समय मांगा है और वह शायद कल हमें मिलने का समय देंगे। शौकीन मुंडका विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीते थे।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में बिजली और पानी की समस्याओं पर बहुत से वादे किए थे, लेकिन कार्यभार संभालने के कई दिन बाद तक वह समस्याएं सुलझाने में नाकाम रहे। शौकीन ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वादा किया था कि हमारी मांगे पूरी की जाएंगी। बता दें, जनता दल (युनाइटेड) के विधायक शोएब इकबाल, शौकीन और आप के निष्कासित विधायक विनोद कुमार बिन्नी ने दो फरवरी को केजरीवाल से बिजली और पानी की दरें कम करने और महिलाओं की सुरक्षा सहित अन्य मांगे की थी और इसे नहीं पूरे होने पर सरकार से समर्थन वापस लेने की धमकी दी थी। इकबाल और शौकीन ने तीन फरवरी को केजरीवाल से मुलाकात की थी और उन्होंने दावा किया था कि मुख्यमंत्री ने उनकी मांगों पर अमल करने का आश्वासन दिया है। शौकीन ने कहा कि इसके बाद से काफी वक्त बीत चुका है और केजरीवाल हमारी मांग का कोई जवाब नहीं दे रहे हैं।
सदन में ये है संख्याबल...
आप ने 2013 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में 28 सीटों पर जीत दर्ज कराई थी, और कांग्रेस के बाहर से मिले समर्थन से सरकार बनाई है, जिसके पास विधानसभा में आठ सीटें हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने 31 सीटें जीती हैं, जबकि अकाली दल, जद (यु) को एक-एक सीट पर जीत मिली है। विधानसभा में एक निर्दलीय उम्मीदवार भी चुन कर आया है। आप के 28 विधायकों में एक को विधानसभा अध्यक्ष बनाया गया है, जबकि बिन्नी को पार्टी विरोधी गतिविधियों की वजह से निष्कासित कर दिया गया है। इस तरह पार्टी के पास सिर्फ 26 विधायक ही हैं।

 
 
अन्य खबरें
 

Cricket Live!

SunStar online
 
 
 

Electline Leader

Electline सेवाएं

Voters's view for election



आपके विचार से अगले चुनाव मे आपकी लोक सभा क्षेत्र से कौन सी पार्टी जीतेगी?

कृपया अपनी लोक सभा चुने