Constituency-wise Result Finder : General Elections India
मोदी से 'पत्‍नी' के अलगाव पर भाई ने कहा- पिता से बेटा कैसे पूछे कि मां को क्यों छोड़ा?
Publish Date :
02/05/2014

औरंगाबाद. भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की 'पत्नी' यशोदाबेन ने हाल ही में एक इंटरव्यू में कहा था, उन्होंने (मोदी ने) मुझे अपनी जिंदगी से अलग कर दिया।' लेकिन, मोदी के भाई प्रह्लाद का कहना है कि यह फैसला उनकी भाभी का था। इस बारे में पूछे जाने पर गुजरात के मुख्यमंत्री के भाई प्रह्लाद कहते हैं कि यह मोदी का व्यक्तिगत मामला है। मोदी को पितातुल्य मानने वाले प्रह्लाद का कहना है कि बेटा अपने पिता से यह सवाल कैसे करे कि उन्होंने मां को क्यों छोड़ दिया? निजी कार्यक्रम में हिस्सा लेने महाराष्ट्र के औरंगाबाद आए प्रह्लाद ने दिव्य मराठी को दिए इंटरव्यू में मोदी से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए।

नरेंद्र मोदी की शादी हो गई थी। बाद में उन्होंने पत्नी को छोड़ दिया। इसका आपको बुरा नहीं लगा?

शादी उनका व्यक्तिगत मामला है। कई साल पहले उन्होंने यह फैसला लिया था। इस बारे में मैंने कभी न तो उनसे कोई चर्चा की, न ही उनकी पत्नी से संपर्क किया।

कभी ऐसा नहीं लगा कि अपनी भाभी का आपको हालचाल पूछना चाहिए?

नहीं। क्योंकि अलग होने का फैसला उनका था। उसके बाद उनसे बात करने का सवाल ही नहीं उठा।

मोदी द्वारा इस तरह से पत्नी को छोड़ देना क्या सही है?

मैंने जैसा पहले बताया कि यह उनका व्यक्तिगत मामला है। बेटा अपने पिता से यह कैसे पूछे कि मां को क्यों छोड़ दिया।

नरेंद्र मोदी पर गोधराकांड के बाद दंगा भड़काने के आरोप हैं। आप क्या कहेंगे?

मोदी के प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनने के बाद चर्चा का रुख और भी गहरा हो गया है। सुप्रीम कोर्ट जब तक किसी व्यक्ति को अपराधी नहीं मानता तब तक वह व्यक्ति राष्ट्रपति पद का चुनाव भी लड़ सकता है। हम पांच भाई हैं। हममें से किसी को भी हमारे माता-पिता ने हिंसावादी संस्कार नहीं दिए। मैं निश्चयपूर्वक कह सकता हूं कि गुजरात दंगों में नरेंद्रभाई का हाथ नहीं था।

फिर किसका हाथ था? कोई तो इसके पीछे होगा?

इसका जवाब चाहिए तो इन सवालों का जवाब तलाशना जरूरी है कि गोधरा में ट्रेन किसने जलाई? कारसेवकों को किसने जिंदा जलाया? मैं मोदी विरोधियों से कहता हूं कि ये जवाब तलाशने के बाद ही नरेंद्रभाई पर दंगों के आरोप लगाएं।

फिर भी वह दंगा किसी ना किसी के कहने से ही हुआ होगा ना?

वह सब अपने आप होता गया। कारसेवकों की लाशें गोधरा से अहमदाबाद लाई गईं। उन्हें देख लोग आक्रामक हो गए। कोई किसी को चांटा जड़े तो उसकी रिएक्शन होनी ही है।
नरेंद्र मोदी की ‘पत्नी’ यशोदाबेन ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्हें उन्हें जिंदगी से कोई शिकवा नहीं है। 62 वर्षीय रिटायर टीचर यशोदाबेन ने कहा, ‘उन्होंने (मोदी ने) मुझे अपनी जिंदगी से अलग कर दिया। इस बात का अब बुरा नहीं लगता। मैं जानती हूं कि वे भाग्यवश और मेरे बुरे समय की वजह से ऐसा कर रहे हैं।’ गौरतलब है कि यशोदाबेन यह दावा करती हैं कि 17 वर्ष की उम्र में उनकी शादी मोदी के साथ हुई थी। हालांकि, मोदी ने इस बारे में कभी कोई बात नहीं कही।

 
बहरहाल, यशोदाबेन को 14 हजार रुपए की मासिक पेंशन मिलती है। वे अपने भाई के साथ रहती हैं। ज्यादातर वक्त भगवान की प्रार्थना में ही जाता है। यशोदाबेन अहमदाबाद आई थी, जहां उन्होंने एक अंग्रेजी अखबार को इंटरव्यू दिया। यह मोदी के प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी बनने के बाद यशोदाबेन का पहला इंटरव्यू है। इसमें यशोदाबेन ने मोदी के प्रधानमंत्री बनने की भी कामना की है।
 
शुरू-शुरू में रसोई में भी लेते थे रुचि:
 
यशोदाबेन ने कहा, ‘मैं 17 वर्ष की थी, तब शादी हुई थी.. मैं पढ़ाई छोड़कर उनके घर गई थी। शुरू-शुरू में मुझसे खूब बात करते थे। रसोई के कामों तक में भी रुचि लेते थे।’ हमेशा मुझसे कहते कि ‘तुम्हारी उम्र कम है। तुम्हें पढ़ाई पूरी करनी चाहिए।’ तीन साल में करीब तीन महीने हम साथ रहे। उसके बाद से आज तक हमारी कोई बातचीत नहीं हुई है। लेकिन मैं आज भी उनसे (मोदी से) जुड़ी खबरें और लेख पढ़ती हूं। टीवी कार्यक्रम भी देखती हूं।’
 
मुझे पता है वे कभी नहीं बुलाएंगे :
 
यदि मोदी प्रधानमंत्री बनकर दिल्ली चले गए और वहां से आपको बुलाया तो क्या करेंगी? इस पर यशोदाबेन कहती हैं, ‘पिछले 42 साल से हमारा कोई संपर्क नहीं है। मैं कभी भी उनसे मिलने नहीं गई हूं। मैं उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचाना चाहती। मैं चाहती हूं कि वह जो भी करें, उसमें तरक्की करें। मैं जानती हूं कि वे एक दिन प्रधानमंत्री बनेंगे। मुझे नहीं लगता कि वे मुझे कभी बुलाएंगे।’
 
 
कभी लगा ही नहीं कि दूसरी शादी करना चाहिए:
 
क्या आप आज भी मोदी की कानूनी पत्नी हैं? उनसे अलग होने के बाद आपने दूसरी शादी क्यों नहीं की? इनके जवाब में वे कहती हैं, ‘पहले अनुभव के बाद मुझे कभी लगा ही नहीं कि दूसरी शादी करना चाहिए। मेरा दिल कभी माना ही नहीं। आज भी जब लोग उनका नाम लेते हैं, मेरा जिक्र बैकग्राउंड में होता है। लोग मुझसे बात करते हैं। क्या आप मुझे ढूंढ़ते हुए बात करने नहीं आए हैं? यदि मैं उनकी पत्नी नहीं होती तो क्या आप मेरे पास आते?

 
 
अन्य खबरें
 

Cricket Live!

SunStar online
 
 
 

Electline Leader

Electline सेवाएं

Voters's view for election



आपके विचार से अगले चुनाव मे आपकी लोक सभा क्षेत्र से कौन सी पार्टी जीतेगी?

कृपया अपनी लोक सभा चुने