Constituency-wise Result Finder : General Elections India
सहानुभूति या समर्थन
Publish Date :
12/16/2013

सिद्धांत

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने सिद्धांतों के बिना राजनीति को सात पापों में से एक बताया है। आज हमारी राजनीति में सब कुछ तो दिखता है लेकिन सिद्धांत गायब हो चले हैं। वोट बैंक की राजनीति हावी हो चली है। ऐसे में सिद्धांत की राजनीति हवा हो चुकी है। आम जनता आज उन्हीं सिद्धांतों और मूल्यों वाली राजनीति की आस निहार रही है। ऐसे में आम आदमी पार्टी के रूप में उसे परंपरागत राजनीति से हटकर एक नयी पार्टी अंधेरे में रोशनी की किरण नजर आई। लिहाजा दिल्ली विधानसभा चुनाव में पहली बार शिरकत कर रहे इस दल को लोगों ने सिर आंखों पर बैठाया।

समर्पण

राजनीति में आने के फैसले के बाद से ही आम आदमी पार्टी अपने आचार, विचार और व्यवहार से जनता और उसके हितों के प्रति समर्पित दिखती रही है। वर्षो से भ्रष्ट सत्ता से अकुलाई जनता को सुशासन के एजेंडे वाले अरविंद केजरीवाल में एक नायक दिखा। मनसा, वाचा और कर्मणा यह नायक दिल्ली की जनअपेक्षाओं पर खरा उतरता भी दिखा।

सच्चाई

दिल्ली जैसी अपेक्षाकृत छोटी और शहरी जगह इस नायक के उत्थान की गवाह रही है। अन्ना के आंदोलन से लेकर उनसे अलगाव और राजनीति में पदार्पण तक हर पड़ाव पर स्थापित राजनीतिक दलों और नेताओं ने इस नायक और इसके सहयोगियों का उपहास उड़ाया। जनता देखती रही और उसका दिल दुखता रहा। मदद का मौका तलाशती रही। आखिरकार चुनाव में कूदने के बाद आम आदमी पार्टी की मदद का जनता को सुनहरा अवसर मिला। लिहाजा पार्टी ने इतिहास रच दिया। अब लोकसभा चुनाव की चुनौती है। ऐसे में इस बात की पड़ताल आज हम सबके लिए बड़ा मुद्दा है कि आम आदमी पार्टी द्वारा रचा गया इतिहास एक स्थायी परिघटना है या फिर सत्ता से क्षुब्ध दिल्लीवासियों के मनोभावों का तात्कालिक प्रदर्शन। क्या पार्टी के इस शानदार प्रदर्शन का आधार जनता की सहानुभूति थी या फिर देश में राजनीतिक बदलाव की बयार बह चली है

जनमत

क्या दिल्ली में आप पार्टी का प्रदर्शन एक स्थायी परिघटना है या फिर लोगों के तात्कालिक मनोभावों का इजहार?

नहीं 18 फीसद

हां 82 फीसद

क्या आगामी लोकसभा चुनावों के दौरान भी आम आदमी पार्टी का जादू बरकरार रहेगा?

नहीं 46 फीसद

हां 54 फीसद

अगले चुनाव में आप का नहीं भाजपा का जादू चलेगा। -प्रिंस राय बक्सर

दिल्ली में आप का प्रदर्शन सुखद परिवर्तन है। यह दिल्लीवासियों की जाग्रत चेतना का परिणाम है। अब संपूर्ण भारत की जनता से यही परिवर्तन अपेक्षित है। -गरिमा चौधरी 50 जीमेल.कॉम

 

 
 
अन्य खबरें
 

Cricket Live!

SunStar online
 
 
 

Electline Leader

Electline सेवाएं

Voters's view for election



आपके विचार से अगले चुनाव मे आपकी लोक सभा क्षेत्र से कौन सी पार्टी जीतेगी?

कृपया अपनी लोक सभा चुने